Friday, July 8, 2011

Nitin Kashyap at Nakshatra

video

सप्तवर्गों से धन का विचार


जन्म कुंडली, होरा, द्रेश्कान, सप्तांश, नवांश, द्वादांश और त्रिम्शांश को सप्तवर्ग कहकर संबोधित करते हैं|
जब ग्रह के बलाबल का विचार होता हैं तो इन वर्गों में उसकी स्थिति पर भी विचार करना चाहिए|
पंडित सुरेश चंद्र मिश्र जी के अनुसार यदि ग्रह इन वर्गों में बली हो तो व्यक्ति की आर्थिक स्थिति उच्च कोटि की होती हैं| ग्रह यदि दो वर्गों में स्वराशि, उच्च राशि या मूल त्रिकोण का हो तो ग्रह को किंशुक संज्ञा दी जाती हैं| तीन वर्गों में व्यंजन, चार में चामर, पांच में छत्र, छ में कुंडल और सातो वर्ग में बली हो तो मुकुट संज्ञा दी जाती हैं| यदि सप्तवर्गों में ग्रह दो-तीन वर्गों में स्वराशि/मूल त्रिकोण/उच्च हो जाए तो उसे १ अंक दे अन्यथा शून्य दें, ग्रह यदि तीन वर्गों या उससे अधिक वर्गों में बली हो तो २ अंक दें| इस प्रक्रिया में अधिक से अधिक १४ अंक प्राप्त हो सकते हैं| जिस ग्रह के पास बिंदु बल हो, उस दशा में जातक को उत्कृष्ट फल मिलते हैं|
उदाहरण कुंडली संख्या १
जन्म तिथि २२ सितम्बर १९८३, जन्म समय १६:३५ जन्म स्थान :- दिल्ली
ग्रह   वर्ग राशि   होरा   द्रेस्कोन सप्तांश नवांश द्वादांश त्रिन्शांश            संज्ञा
सूर्य         6          4          6          1          11        8          6          
चन्द्र         12        4          12        7          6          2          6           किंशुक 1
मंगल        5          5          5          5          1          5          1                      किंशुक 1
बुध         5          4          1          10        7          2          3                      किंशुक 1
गुरु          8          4          12        4          7          12        6                      व्यंजन 1
शुक्र         5          5          5          5          1          5          1
शनि         7          5          7          9          9          10        11                    चामर २